17-May-2024
HomeLIFESTYLEभारत की संस्कृति और एकता: मुहर्रम के जुलूस में दिखती सह-अस्तित्व की...

भारत की संस्कृति और एकता: मुहर्रम के जुलूस में दिखती सह-अस्तित्व की झलक

भारत में भारतीय संस्कृति और एकता के अद्भुत नमूने मिलते हैं, जो इस अनोखे जुलूस के माध्यम से प्रकट होते हैं।

भारत एक ऐसा देश है जो अपनी संस्कृति के लिए विश्वविख्यात है। यहां विभिन्न सम्प्रदायों और पंथों के लोग निवास करते हैं। इस विशाल भूभाग पर भारत के प्राकृतिक और सांस्कृतिक विविधता को देखने में दुनिया के किसी और देश से अधिक नहीं मिलता है।

भले ही लोगों के मजहब और अक़ीदत अलग हों, उनमें कोई न कोई समानता दिखाई देती है। यहां मुहर्रम के जुलूस को लें। इस अवसर पर, विभिन्न त्यौहारों की शोभा यात्राएं देखने को मिलती हैं, जो एकता और समान्वय की मिसाल पेश करती हैं।

मुहर्रम के महीने में शिया वक़्फ़ा के आख़िरी रसूल हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) के नवासे, हज़रत इमाम हुसैन (अलैहिस्सलाम) और कर्बला के दूसरे शहीदों को याद करते हैं। इस अवसर पर वे स्याह लिबास पहनते हैं।

जुलूस में अलम भी होते हैं, जिन्हें अलम परचम भी कहते हैं। यह अलम हज़रत इमाम हुसैन (अलैहिस्सलाम) की याद में बनाया जाता है, जो कर्बला में उनकी फ़ौज का निशान था। जुलूस में जो परचम होता है, उस पर पंजे का निशान होता है। इस तरह, भारत में भारतीय संस्कृति और एकता के अद्भुत नमूने मिलते हैं, जो इस अनोखे जुलूस के माध्यम से सामने आते हैं।

इस खबर को पूरा पढ़ने के लिए hindi.awazthevoice.in पर जाएं।

ये भी पढ़ें: विश्व शांति के लिए महत्वपूर्ण: भारत गणराज्य के साथ डॉ. मोहम्मद अब्दुलकरीम अल-इस्सा का दिलचस्प भ्रमण

आप हमें FacebookInstagramTwitter पर फ़ॉलो कर सकते हैं और हमारा YouTube चैनल भी सबस्क्राइब कर सकते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments