18-May-2024
Homeहिंदीइस्लामिक देशों में, धार्मिक मामलों पर ध्यान दिया जाता है

इस्लामिक देशों में, धार्मिक मामलों पर ध्यान दिया जाता है

भारत मुसलमानों की दार-उल-अमन की तरह रक्षा करता है, लेकिन उन्हें जजिया जैसा कोई अतिरिक्त कर भी अदा नहीं करना पड़ता है।

इस्लामिक देशों में, धर्मिक मामलों पर ध्यान दिया जाता है लेकिन कट्टरपंथ की वजह से सरकार के खिलाफ आलोचना नहीं की जा सकती है। पाकिस्तान जैसे इस्लामी लोकतांत्रिक देश में आतंकवाद प्रबल है। मेरा मानना है कि इस्लामिक सरकार के कारण धर्मिक मामलों पर अलग होना मुश्किल है। मौलवियों और मुफ्तियों की कट्टरता से आप हमेशा सुखी नहीं रह सकते।

पाकिस्तान में भी मस्जिद और मदरसे में सुरक्षित महसूस नहीं होता। चीन जैसे देशों की स्थिति पर विचार करते हुए यह चिंता होती है कि मुसलमानों को एक विरोधी माहौल में रहना पड़ता है। धार्मिक असहमति के कारण मुसलमान एक दूसरे के खिलाफ हो गए हैं।

कुछ जगहों पर शिया-सुन्नी संघर्ष होता है और वहाबी-सुन्नी रिश्ते कुछ देशों में अच्छे नहीं हैं। भारत मुसलमानों की दार-उल-अमन की तरह रक्षा करता है, लेकिन उन्हें जजिया जैसा कोई अतिरिक्त कर भी अदा नहीं करना पड़ता है।

इस खबर को पूरा पढ़ने के लिए hindi.awazthevoice.in पर जाएं।

ये भी पढ़ें: आयुषी सिंह UP PCS पास कर DSP बनीं, कैसे की थी पढ़ाई?

आप हमें FacebookInstagramTwitter पर फ़ॉलो कर सकते हैं और हमारा YouTube चैनल भी सबस्क्राइब कर सकते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments