17-Apr-2024
Homeहिंदीभारतीय मुस्लिमों के भीतर विभाजन: पसमांदा मुस्लिमों की उच्चता

भारतीय मुस्लिमों के भीतर विभाजन: पसमांदा मुस्लिमों की उच्चता

पसमांदा मुस्लिम आरोप लगाते हैं कि अशराफ राजनीति और व्यवस्था में उनके प्रति हवाई और हेरफेर करते हैं

भारत की आजादी के साढ़े छह महीने तक, पसमांदा मुस्लिम (Pasmanda Muslims) संविधान के अनुच्छेद 341 के तहत आरक्षण के हकदार थे। लेकिन 10 अगस्त, 1950 को राष्ट्रपति ने उन्हें वंचित समुदायों की सूची से हटा दिया, जबकि उन्हें आरक्षण की आवश्यकता थी। यह आदेश लाखों भारतीय मुस्लिमों को प्रभावित किया और उनके भीतर विभाजन को तेज कर दिया।

अखिल भारतीय पसमांदा मुस्लिम महाज (All India Pasmanda Muslim Mahaj) की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष शमीम अंसारी बताते हैं, “नेहरू सरकार का यह कदम मौलाना अबुल कलाम आजाद के इशारे पर उठाया गया था।” पसमांदा मुस्लिम आरोप लगाते हैं कि अशराफ राजनीति और व्यवस्था में उनके प्रति हवाई और हेरफेर करते हैं।

इस खबर को पूरा पढ़ने के लिए hindi.awazthevoice.in पर जाएं।

ये भी पढ़ें: आयुषी सिंह UP PCS पास कर DSP बनीं, कैसे की थी पढ़ाई?

आप हमें FacebookInstagramTwitter पर फ़ॉलो कर सकते हैं और हमारा YouTube चैनल भी सबस्क्राइब कर सकते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments