21-Feb-2024
HomeWOMENपीरियड्सः - एक मानवीय आंदोलन की कहानी

पीरियड्सः – एक मानवीय आंदोलन की कहानी

मासिक धर्म सिर्फ महिलाओं का मुद्दा नहीं है, यह एक मानवीय मुद्दा है और इसे दोनों लिंगों को संवेदनशील बनाना चाहिए

डॉ. सानिया सिद्दीकी (Dr. Sania Siddiqui) की सोच और चिंता से जन्मा यह नारा है। उनके क्लीनिक में आने वाली महिलाएं यौवन और मासिक धर्म (Periods) के बारे में चिंतित होती हैं। लेकिन उन्हें ये समझाने में समस्या होती है कि इसे आमतौर पर कैसे चर्चा करें।

मासिक धर्म (Periods) के बारे में बात करने की आवश्यकता का आंदोलन पैदा हुआ। वह आंदोलन द्वारा महिलाओं की आवाज बनीं और संदेश दिया कि ‘पीरियड्सः शर्म नहीं, शर्म नहीं’। अब देशभर में पहचान की जरूरत हैं।

डॉ. सानिया का कहना है कि मासिक धर्म सिर्फ महिलाओं का मुद्दा नहीं है, यह एक मानवीय मुद्दा है और इसे दोनों लिंगों को संवेदनशील बनाना चाहिए।

इस खबर को पूरा पढ़ने के लिए hindi.awazthevoice.in पर जाएं।

ये भी पढ़ें: आयुषी सिंह UP PCS पास कर DSP बनीं, कैसे की थी पढ़ाई?

आप हमें FacebookInstagramTwitter पर फ़ॉलो कर सकते हैं और हमारा YouTube चैनल भी सबस्क्राइब कर सकते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments